0

sai baba story | sai baba history in hindi | साईं बाबा का इतिहास |sai baba ki kahani hindi

साईं बाबा – Sai baba (सन -1856 – 15 अक्टूबर 1918)

साईं बाबा का इतिहास

sai baba story | sai baba history in hindi | sai baba ki kahani hindi

_______________________________________________

 

दोस्तों हम आज आपको साईं बाबा की हिस्ट्री हिंदी ( sai baba history in hindi ) में

बताने  जा रहे है. इस आर्टिकल में  हम आपको साईं बाबा की स्टोरी ( sai baba story )

को अच्छी तरह से बताएँगे.

 

( साईं बाबा का इतिहास ) history of sai baba in hindi :-

साईबाबा ( Sai baba ) एक भारतीय हिंदू संत थे। अहमदनगर( Ahmadnagar ) जिल्हा

के ‘ राहाता ‘ तहसिल में शिर्डी गांव में रहने के कारण उनको शिर्डी ( shirdi )  वाले साईबाबा

के नाम से मशहूर हुये और साईबाबा ने शिर्डीसे ही सब लोगों को श्रद्धा व सबुरी का महामंत्र

दिया था।

sai baba history in hindi | शिर्डी के साईं बाबा का इतिहास

 

शिर्डी को आने के बाद जो सुख और मन की शांतिमिलती है और एक आत्मविश्वास जो

बढ़ता है इसी के कारण वो सिर्फ हिंदुस्तान में ही नही बल्कि पूरे विश्व भर में भक्तों का

श्रद्धास्थान बना हुआ है।

 

साईबाबा का जन्म सन 1856 में पाथरी जिल्हा परभणी महाराष्ट्र में हुआ था। और उनका

निर्वाण 15 अक्टूबर 1918 में शिर्डी महाराष्ट्र में हुआ। साईबाबा का उपस्यादैवत सबका

मालिक ( ईश्वर / god ) एक है।

 

श्री साईबाबा ( sri sai baba ) को उर्दू और मराठी भाषा अवगत थी और उनका कार्यक्षेत्र शिर्डी

महाराष्ट्र रहा है। उनका प्रसिद्ध वचन सबका मालिक एक और सबुरी था।

साईबाबा ने हमेशा भिक्षा मांगकर ही अपना गुजारा किया और सारी उम्रउन्होंने सबका

मालिक एक है ऐसा संदेश दिया।

 

अहमदनगर जिल्हा राहाता तहसिल का शिर्डी अब आधुनिक हिंदुस्तान का बहुत ही

बड़ा तीर्थक्षेत्र बन गया है। साईबाबा के चरण स्पर्श से एक जमाने मे छोटासा गांव

शिर्डी अब बड़ा शहर बन चुका है बाबा का आर्शीवाद लेने के लिए देश -विदेश से

लाखों लोग यहाँ पे आते है। मनमाड – अहमदनगर राज महामार्ग पे शिर्डी बसा हुआ है।

 



 

साईबाबा अक्सर कहेते थे…

” मेरे देह (शरीर) त्याग के बाद मेरी हड्डियाँ मेरी तुर्बत से बोलेगी …… और चींटीयाँ

 जैसी इंसानो की कतारें लगेगी” और आज बिल्कुल साई ने बताया था वैसे ही हो रहा है।

उनके दर्शन करने के लिए लाखों भक्तो की कतारे ही कतारे हर रोज लगी रहती है ।

शिर्डी साई एक ऐसी तीर्थ स्थल है यहां आनेवाले भक्तो की सच्चे दिल से की मनोकामना

पूरी होती है । चाहे वो गरीब – अमीर दुःखी कोई  भी क्यों न हो।

****

 

hope you will love this article about the history of sai baba.

आशा करते है के आपको ये साईं बाबा के इतिहास की कहानी पसंद आयी होगी

साईं बाबा का इतिहास | sai baba story | sai baba history in hindi | sai baba ki kahani in hindi

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *