1

फ़र्श से अर्श तक का सफर

Struggle of my life
मेरे जीवन का संघर्ष
( फ़र्श से अर्श तक )

struggle story

दोस्तों मैं आज अपनी ज़िन्दगी के बारे में आप से कुछ शेयर करना चाहता हु।

मेरा फर्श से अर्श तक का सफर

मैं बहुत ही गरीब परिवार से आता हु। इतना गरीब जहाँ एक वक़्त का भी खाना बहुत

ही मुश्किल से मिलता हो। मेरे  पिता जी बिलकुल पढ़े लिखे नहीं थे, दूसरे के पास खेती में

काम करते थे।  हमारे परिवार में टोटल 7 सात मेंबर थे,  मुझ से बड़ी तीन बहने थी

औरमुझसे  छोटा एक भाई और माता पिता थे।

पिता जी खेत में काम करते थे छोटा सा गांव था कभी काम मिलता तो कभी नहीं मिलता

कभीकभी तो दो दो महीने काम नहीं मिलता। उस में और पिता जी को शराब पिने की बुरी

लत लग गई थी। जो भी कुछ कमाते बस शराब में उड़ा देते। बहुत मुश्किल से हमें एक

वक़्त का खाना मिल पाता। मेरी माँ और बड़ी दो बहने भी काम करती थी, इस लिए हमारा

कैसे तो गुज़ारा होता था।



मेरे पिता जी भले ही अनपढ़ थे लेकिन मुझे उन्होंने थोड़ा बहुत पढ़ाया इस के लिए मैं उनका

बहुत बहुत एहसान मानता हू। मेरी चौथी 4th गांव के ही सरकारी स्कूल में हुई और आगे

10th तक पड़ोस के एक गांव में हुई। मैंने कुल बारवीं 12th तक शिक्षा प्राप्त की है,

लेकिन ये शिक्षा हासिल करने में बहुत सारी स्ट्रगल परेशानिया उठायीं जब मैं पांचवी 5th में

था, एक किराना दूकान पे पार्ट टाइम काम करता था। लेकिन मुझे उस काम के कोई  पैसे

नहीं मिलते थे, काम के बदले सिर्फ एक टाइम का खाना मिलता था, और कभी कभी दूकान

मालिक खुश हो कर दो संतरे वाली गोलियां मिलती थी। आप बहुत सारे लोग संतरा गोली के

बारे में जानते ही होंगे।

 

*

दोस्तों मेरी जीवन कहानी बहुत लम्बी हैं , एक किताब भी कम होगी इसी लिए थोड़ा शॉर्टकर्ट

में बता देते हैं और कभी ज़िन्दगी में मौका मिला तो और बातें होगी। फिर बहनो की शादी

इस से उस से पैसे मांगकर कुछ क़र्ज़ ले कर करनी पड़ी। क़र्ज़ का बोझ सर पर बढ़ा तो

ज़िन्दगी और भी दुश्वार होने लगी , पैसे वाले तंग करने लगे relatives और रिश्तेदार

ठीक से बात भी नहीं करते थे। तब मैं 8 वी में था , मेरी स्कूल टाइमिंग 12 से 5 बजे तक

थी। तो मैं एक शुगर फैक्टरी में रात में 8 से सुबह 5 बजे तक काम करता था, और फिर

12 से 5 स्कूल जाता। मुझे महीने के 450 रुपए मिलते थे , पढ़ाई को न वक़्त मिलता था न

कुछ कभी दिल में ख़याल आता की सुसाइड कर ले ये क्या ज़िन्दगी हैं लेकिन परिवार का

ख़याल आता। बिच बिच में बहुत सारी मुश्किलें आती ही रहती लेकिन ज़िन्दगी से संघर्ष करता

रहा जैसे तैसे 12वी कर ली।

 

और काम के लिए मुंबई आया , यहाँ भी दो महीने तक बहुत ही स्ट्रगल करना पड़ा।

रेलवे स्टेशन और फुटपाथ  पे रातें गुज़ारी वहा से फिर पुणे आया पुणे आने के बाद

8  दिन के बाद काम मिला एक एग्रीकल्चर कंपनी में 4 साल तक सेल्स मन की जॉब की।

वहा पे पेमेंट कमिशन बेसिक पे होता था, जैसे तैसे 4 साल निकाले। लेकिन मुझे कुछ

इस से अलग करना था कुछ बड़ा करना था,  अपना खुद का बिज़नेस करना था। तो

मैंने उस कंपनी की जॉब छोड़ दी , लेकिन बिज़नेस के लिए पैसा कहा से लायें , कंपनी

की नौकरी तो छोड़ दी थी। तो मैंने मार्किट से कुछ प्रॉडक्ट ले कर ( होमेअप्प्लियंसेस )

डोर to डोर और बाज़ारों में जा कर बेचने लगा , एक साल तक बहुत ही ज़्यादा स्ट्रगल

करना पड़ा एक साल बाद बिज़नेस ने स्पीड पकड़ ली और अच्छा चलने लगा। और

अच्छी कमाई हो रही थी , और आखिर कार 9th नवंबर 2015 को मैंने अपनी खुद की

कंपनी चालु की और बहुत सारी मेहनत लगन ईमानदारी से मैं कामयाब हुआ आज

मेरे पास मुंबई में अपना घर कार बाइक सब कुछ है।  कंपनी का साल का टर्नओवर

3.2 करोड़ है, आज मेरे पास 41 एम्प्लाइज काम करते हैं।

 



मैं आपको ये सब इसी लिए बता रहा हु दोस्तों हर इंसान के जीवन में बहुत

सारी परेशानिया प्रोब्लेम्स आती ही रहती है। हो सकता है कुछ लोगो के

जीवन में मुझ से भी ज़्यादा प्रोब्लेम्स आयी होगी लेकिन दोस्तों उस प्रॉब्लम

को फेस करना चाहिए ना की पिछे भागना चाहिए।  जब हम परेशान

होते है तो कोई साथ नहीं देता ना दोस्त ना रिश्तेदार  मज़ाक उड़ाते है

लेकिन कोई हेल्प नहीं करता। लोग हस्ते है हसने दो आगे बढ़ो खूब सारी

मेह्न्नत और लगन ईमानदारी से आप भी बहुत कुछ कर सकते हो शायद

मुझ से भी बहुत बड़ा बिज़नेस खड़ा कर सकते हो , बहुत बड़े बिज़नेस मन

बन सकते हो।  bounce back  करो दोस्तों मुझे पता है , तुम भी बहुत कुछ

कर सकते हो दोस्तों , you can do it friends डर के आगे जीत है।

 

कोई भी छोटा मोटा बिज़नेस स्टार्ट करो , फुल मेहनत करो  काम करो

इतिहास देखो आज का हर बड़ा बिज़नेस पहले बहुत छोटा था लेकिन

आज देखो वैसे आप भी कर सकते हो।

 

दोस्तों जब मुझ जैसा एक छोटे गांव से आने वाला ज़्यादा पढाई  नहीं कुछ नहीं
इतना बिज़नेस कर सकता है। तो आप मुझ से बेहतर हो आप तो मुझसे भी बड़ा
कर सकते हो मुझे पूरा विशवास है। चलो दोस्तों आप से बहुत सारी बातें की अपनी
ज़िन्दगी की बातें शेयर की आप से बात कर के बहुत अच्छा लगा। उम्मीद करता
हु आप भी मेहनत और लगन से ज़रूर कामयाब होंगे।

शुक्रिया



admin

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *